जंघई।सरायममरेज थानांतर्गत रधईपुर, महरछा गांव निवासी सेवानिवृत्त प्रधानाध्यापक मातादीन तिवारी के ज्येष्ठ पुत्र स्व. ओमप्रकाश तिवारी के तीन पुत्रों में सबसे बड़े आनंद तिवारी उम्र 33 वर्ष किसी काम से शुक्रवार को कटहरा की तरफ गये थे, वहां से लौटते समय अनुवां चनेथू मार्ग पर स्थित एमडीएस विद्यापीठ चनेथू के सामने शाम करीब 7 बजे किसी अज्ञात चार पहिया वाहन ने आनंद तिवारी की हीरो होंडा बाइक में टक्कर मार दिया। बाइक अनियंत्रित होकर गिर गई जिसके कारण आनंद को सिर एवं सीने में गंभीर चोटें आयीं और काफी देर तक खून से लथपथ सड़क पर पड़े रहे अंधेरा होने के कारण राहगीरों ने देर में देखा तो परिजनों को सूचना दी। परिजन भागकर पहुंचे और इलाज हेतु जंघई अस्पताल लेकर भागे लेकिन डाक्टरों ने स्थिति गंभीर होने के कारण प्रयागराज रेफर कर दिया। प्रयागराज में भी डाक्टरों ने स्थिति गंभीर देखते हुए आनंद को वाराणसी रेफर कर दिया जहां पर इलाज के दौरान शनिवार दोपहर में आनंद तिवारी की मौत हो गई। परिजनों को मौत की सूचना मिली तो कोहराम मच गया जो जहां था वहां से वाराणसी अस्पताल पहुंचा शव का पंचनामा भरकर पोस्टमार्टम किया गया, परिजनों का रो रोकर बुरा हाल है आनंद के पिता ओमप्रकाश तिवारी की मृत्यु भी करीब 4 साल‌ पूर्व एक सड़क दुर्घटना में हुई थी। आनंद को एक दो‌ वर्ष का बेटा है, आनंद तीन भाईयों में सबसे बड़े थे, आनंद की मौत से परिजनों में कोहराम मच गया मां एवं पत्नी बेसुध हो गई।इस आकस्मिक दुर्घटना से सभी परिजन, रिश्तेदार, गांव एवं क्षेत्रवासी हतप्रभ हैं।